Sunday, May 15, 2016

  from my new book -हार नहीं मानूंगा - coming soon
1990
में अयोध्या आंदोलन चरम पर था। ग्वालियर से कारसेवकों का जत्था झांसी के लिए रवाना हो रहा था। उसी वक्त सूचना मिली कि अटल जी रेल से ग्वालियर से होकर भोपाल जाने वाले हैं।शताब्दी एक्सप्रैस ग्वालियर स्टेशन पर रुकी। अटल जी ट्रेन से बाहर आए तो नारे लगने लगे, अटल बिहारी ज़िंदाबाद। फिर रामलला हम आएंगें, मंदिर वहीं बनाएंगें।ख़ून की होली खेलेंगे,मंदिर वहीं बनाएंगेके नारे लगने लगे।


  

Search