Tuesday, November 17, 2015

book on vajapyee -coming soon


पश्चिम बंगाल के छोटा मिदनापुर के छोटा अंगाड़िया इलाके में हिंसा हो गई , काफी लोगों की जान गईं । ममता बनर्जी बहुत गुस्से में थीं । वे पश्चिम बंगाल में लेफ्ट पार्टी  की बुद्धदेब भट्टाचार्य की सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर रही थी ,लेकिन एनडीए सरकार में कोई सुनवाई नहीं हुई । ममता  प्रधानमंत्री वाजपेयी से मिलने दिल्ली पहुंचीं और अपने झोले में से  हडिड्यां  और खोपड़ियां निकालने लगीं और एक-एक करके उन्हें वाजपेयी के सामने टेबल पर रखने लगीं तो वाजपेयी को यकायक समझ ही नहीं आया कि क्या हो रहा  है ।

 फिर वाजपेयी ने कहा कि ये तो वाकई गंभीर मामला है लेकिन राष्ट्रपति शासन लगाना तो गृह मंत्रालय का काम है , उनकी सिफारिश पर ही तो कैबिनेट फैसला करेगी , इसलिए आप आडवाणी जी से मिलिए । ममता गृह मंत्री आडवाणी से मिलीं  । आडवाणी ने राष्ट्रपति शासन लगाने का भरोसा तो नहीं दिया ,लेकिन सीबीआई जांच के आदेश दे दिए । ममता नाराज़ हो गईं , उन्हें लगा कि वाजपेयी तो तैयार हैं  लेकिन  आडवाणी  तैयार नहीं हुए क्योंकि  उनकी पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री बुद्धदेब भट्टाचार्य से दोस्ती है ।

No comments:

Post a Comment

Search