Thursday, August 29, 2013

javed akhtar-बातों के मतलब

                                   बातों की बातें 

            कुछ बातों के मतलब हैं और कुछ मतलब की बातें ,
                 जो ये फ़र्क समझ लेगा वो दीवाना तो होगा ।।




Monday, August 26, 2013

black magic -डरपोक हैं हम


विजय त्रिवेदी


सबसे बड़ा डर है कि हम डरते हैं 

वैज्ञानिक शिवा विश्वनाथन से ख़ास बातचीत 

वे वैज्ञानिक हैं , वे एक्टिविस्ट हैं , सुधारक हैं और मुद्दों पर लड़ने के लिए हमेशा तैयार रहने वाले हैं ।सरकारें आमतौर पर उनसे खुश नहीं रहती , राजनेता नाराज़ रहते हैं, धर्म गुरु उन्हें अपना दुश्मन सरीखा मानते हैं तो समाज को सुधारने वाले लोग भी उनकी बेबाकी से कमोबेश परेशान रहते हैं

 उन्हें लगता है सच बोलना ज़रुरी है और उसे लिए उससे भी ज़्यादा ज़रुरी है निडर होना , डरना नहीं......

Monday, August 19, 2013

दाग़ अच्छे नहीं हैं - Krishnamurthy T S


विजय त्रिवेदी


चुनाव लड़ना कोई फंडामेंटल राइट नहीं

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त टी एस कृष्णमूर्ति से ख़ास बातचीत


यूपीए सरकार के दस साल पूरे होने वाले हैं । 2004 में जब ये सरकार आई थी तब वे मुख्य चुनाव आयुक्त थे । उनकी देखरेख में एक शांतिपूर्ण, गैर हिंसात्मक सत्ता परिवर्तन हुआ था .एनडीए से यूपीए सरकार बनने का ।

 उन्होंने राजनीति और जम्हूरियत की शक्ल सुधारने के लिए बहुत से चुनाव सुधारों का खाका तैयार किया ,लेकिन सरकार ने कोई ठोस फैसले नहीं लिए और इलेक्टोरल रिफोर्म के लिए पहल नहीं ली ।

Saturday, August 17, 2013

no language for love


विजय त्रिवेदी

शाहरुख़ ख़ान से ख़ास मुलाक़ात

....................................................................
प्यार की कोई भाषा नहीं होती 

सबसे तेज़ रफ्तार से 100 करोड़ कमाने वाला बाज़ीगर । कुछ लोग उन्हें बालीवुड का बादशाह कहते हैं तो कुछ किंग ख़ान ।शाहरुख खान बिज़ी हैं , स्ट्रेटजी बनाने में , टेलीविजन शो के गेस्ट बनने में और मुल्क के अलग अलग शहरों में ,उनकी चैन्नई एक्सप्रेस रेलवे की दुरन्तो और राजधानी से भी तेज़ रफ्तार से दौड़ रही है ।

 फिल्म रिलीज होने के पहले तीन दिन में फिल्म ने सौ करोड़ रुपए का बिज़निस करके इतिहास बना दिया और साबित कर दिया कि शाहरुख फिल्मी दुनिया के असली शहंशाह है । रोज़ाना 14 से 18 घंटे काम में लगे शाहरुख जब दिल्ली में मिले तो बोले - बहुत दिनों बाद कल पूरी नींद सो पाया ,तो मैंने कहा - सबकी नींद उड़ाकर ...एक ज़ोरदार सी हंसी …..


सवाल- मुबारकबाद,तीन दिन में सौ करोड़ ,आपने तो दूसरों की नींद तो उड़ा ही दी ,

Tuesday, August 13, 2013

dont underestimate the power


Dont underestimate the power of common man



                               Chennai express  at New Delhi

Monday, August 12, 2013

xclusive intv wd Vinod Rai ,fmc CAG,उस रात चीफ सेक्रेटरी ने


विजय त्रिवेदी

पूर्व सीएजी विनोद राय के साथ ख़ास मुलाक़ात

उस रात चीफ सेक्रेटरी ने मना कर दिया होता तो ....

चेहरे पर हल्की सी मुस्कराहटधीमीमीठी लेकिन ताकतवर आवाज़ अब तक सरकार के कामकाज पर सवाल उठाते रहे अब हर सवाल का जवाब देने को तैयार ।कई बार सवालों के जवाब में भी सवाल । 

आजकल देश भर के अलग अलग शहरों में व्याख्यान देने में लगे ताकि मुल्क में नौजवान पीढ़ी को ताकत मिल सके हिम्मत मिल सके और असल में सही रास्ता मिल सके ,लेकिन खुद को जेहादी ,आंदोलनकारी या फिर हीरो मानने को तैयार नहीं ।सरकार के कुछ लोगों की नज़र में मुनीम रहे पूर्व सीएजी विनोद राय ने अपनी रिपोर्ट से सरकार के कई मंत्रियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया ।

Sunday, August 11, 2013

Chennai Express - * * *


Chennai Express -  ***
    just entertainment -Shahrukh's film in Rohit shetty style 

Thalaiva,
 Don't under estimate the power of common man


http://www.youtube.com/watch?v=kb39UiUbdH0

Thursday, August 8, 2013

EID MUBARAK

EID MUBARAK





KHUSHION KE RANG,

bjp's new poster boy

                     BJP's New Poster Boy ?




                          BJP READY TO ANNOUNCE 

Wednesday, August 7, 2013

wind up the show -नहीं बनेंगे लोकायुक्त




my way or highway

Letter of Gujarat Lokayukta  Justice Mehta to Governor 

6"' August 20 13
Your Excellency, the Governor of Gujrat, Dr. Smt. Kamlaji, and
Hon'ble the Chief Justice of Gujarat, Mr. Justice Bhaskar Bhattacliarya,
1. I am thankful for putting confidence in me for the high office of the
Gujarat Lokayukta.
2. When Hon'ble the then Chief Justice Mr. Justice S J Mukhopadhyay
kindly invited me two years ago for my consent for this purpose, and
discussed, I was not interested, having no ambition or desire, and was
reluctant, being averse to any controversy. With kindness and great persuasion
I was given to understand that the choice would be unanimous and without any
objection from any quarter including the State Government. I had my own
reason to believe

Monday, August 5, 2013

meet milkha - हज़ारों बुर्कानशीं देख रही थी


विजय त्रिवेदी

 वो नंगे पैर भागता रहा 
एथलीट मिलखा सिंह से ख़ास बातचीत

संघर्षमेहनत और समर्पण

उम्र 77 साल तेज़ी -17 साल सी ,हौसला आर्मी के जवान जैसा रुकते नहीं हैं पांव अब भी दौड़ रहे हैं ताकि मुल्क आगे हो सके जीत सके । मैडल हासिल कर सके । पूरी दुनिया में नाम रोशन हो मुल्क का । मिलखा सिंह फ्लाईंग सिख । 80 में से 77 रेस दौड़ने वाला एथलीट । नंगे पांव भागने वाला एथलीट ।

Sunday, August 4, 2013

jism kee baaten- जिस्म जिस्म के लोग


विजय त्रिवेदी

रूहानी,रूमानी और जिस्मानी

तेरे बदन की लिखावट में है उतार चढ़ाव ,
मैं कैसे पढूंगा,मुझे किताब तो दे ।
राहत इन्दौरी साहब के इस शेर को पढ़े वक्त गुज़र गया ,लेकिन क़िताब अब जाकर मिली, जिससे बदन की लिखावट को समझा जा सके । जिस्म की खुशबू , जिस्म की धड़कन और जिस्म के रंग अंधेरे में समझ आने लगे ।

Friday, August 2, 2013

xclsv wd krishna sobti-दूसरों का बीज पाप ?


विजय त्रिवेदी
लेखिका कृष्णा सोबती से विशेष मुलाकात

औरत मर्दों की साज़िश का शिकार ना बने
चेहरे पर नूर, आंखों में चमक और होठों पर खनखनाती सी हंसी
,बातचीत में स्वर नहीं है, झरना बहने लगता है कलकल करता सा ,इतिहास के पहाड़ों से उतरती स्मृतियां कैसे वर्तमान में नदी की तरह पिघल कर कब भविष्य के समुंदर में मिल जाती हैं ,एहसास ही नहीं होता ।

 शब्द सिर्फ वाक्य विन्यास के औज़ार नहीं लगते ,ज़िंदगी को श्रृंगारित करते आभूषण बन जाते हैं । शब्दों को हर बार नये मायने

Search